Search
  • the thought fox

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं - अल्लामा इक़बाल

Where does it come from? The fire in their eyes. What sapling of fear turns into defiance in the eyes of a protestor, quivering in the morning breeze like a peepal leaf? What drives this anger that simmers before boiling over into the streets, into feet that will continue to beat to the rhythm of their conscience, even after you turn them into mausoleums? Today i think we all need to hear Allama Iqbal's fiery recasting of identity. His reminder that inside this sack of skin and bones, there are embers of hope that will turn into a blaze


transcript of full poem:

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं सितारों से आगे जहाँ और भी हैं

अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं

तही ज़िंदगी से नहीं ये फ़ज़ाएँ

यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं

क़नाअत न कर आलम-ए-रंग-ओ-बू पर

चमन और भी आशियाँ और भी हैं

अगर खो गया इक नशेमन तो क्या ग़म

मक़ामात-ए-आह-ओ-फ़ुग़ाँ और भी हैं

तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा

तिरे सामने आसमाँ और भी हैं

इसी रोज़ ओ शब में उलझ कर न रह जा

कि तेरे ज़मान ओ मकाँ और भी हैं

गए दिन कि तन्हा था मैं अंजुमन में

यहाँ अब मिरे राज़-दाँ और भी हैं #poemaday #apoemaday #poetrydaily #poetsresist #poetry #poetsdaily #IndiaagainstNRC #IndiaagainstCAA #kisikebaapkahindustanthodihain #allamaiqbal #iqbal #urdupoetry #hindikavita #Indiawrites #writersresist #writetolife #peacefulprotest #anewdawn #studentprotests #azad #writersofinstagram #poemsoninstagram #poetryoninstagram #dailypoetry #poemsofinstagram #selfcare #hope #peoplesmovement #Indiaresists #youngindia

10 views0 comments